Indian Constitution GK Trick in Hindi (भारतीय संविधान के विदेशी स्त्रोत)

gktrick indian constitution in hindi

0

Indian Constitution GK Trick – अक्सर प्रतियोगी परीक्षाओं में प्रश्न पूछे जाते हैं कि हमारे भारतीय संविधान के किन देशों से क्या-क्या लिया गया है| अक्सर प्रतियोगी विद्यार्थी इन्हें याद कर तो लेते हैं, लेकिन कुछ ही समय के बाद भूल जाते हैं!! तो आज हम आप सभी प्रतियोगी विद्यार्थियों के लिए “Indian Constitution GK Trick in Hindi” लेख के माध्यम से लेकर आए है, जिसे आप सभी आसानी से याद /तैयार कर सकते है….

Indian Constitution GK Trick Hindi

तो चलिए देकते है, की भारतीय संविधान के विदेशी स्त्रोत किस प्रकार के है ,  और हमें इनसे क्या-क्या फ़ायदा हुए है :-

Indian Constitution GK Trick

Indian Constitution GK TRICK –

एक बार कुछ देश के लोग बैठकर आपस में बातेंकर रहे थे. भारत की तरफ से संविधान के प्रारूप समिति के अध्यक्ष डॉक्टर भीम राव अम्बेडकर चुप-चाप सुन रहे थे. बातें कुछ इस प्रकार हो रही थी.

ब्रिटेन :- पूरे देश पे मेरा कब्जा था इसलियेसंसद का निर्माण हम अकेले करेंगे.
(संसदीय प्रणाली, विधि निर्माण, एकल नागरिकता)

अमेरीका :- नहीं मेरे पास संयुक्तराष्ट्र संघ है. इसलिए लोगों को न्याय औरस्वतंत्रता दिलाना मेरा अधिकार है.
(न्यायिक, स्वतंत्रता का अधिकार और मौलिक अधिकार)

जर्मनी :- तुम लोग हमें विश्व युद्ध में हराए हो इसलिए पहले मैं आपातकाल घोषित करुंगा
(आपातकाल का सिद्धांत)

‪फ्रांस :- मैं तो पहले से ही गणत्रंत वाला देश हूं ये तो तुम सब जानते ही हो.
(गणत्रंतात्मक शासन व्यवस्था)

‪कनाडा :- तुम लोग को जो करना हो करो. मैं एक शक्तिशाली देश हूं मैं तो शक्ति का बंटवारा करके अपनी सुरक्षा कर लूंगा.
(राज्यों में शक्ति का विभाजन)

आयरलैंड :- अरे यार! तुम लोग की नीति निर्देश तो मेरे कुछ समझ में ही नहीं आ रहे हैं.
(नीति निदेशक तत्व)

ऑस्ट्रेलिया :- मैं विश्व कप क्रिकेट में हमेशा सूची नंबर-1 पर रहा हूं.
(समवर्ती सूची)

दक्षिणअफ्रीका :- पर मैं इतना अच्छा खेलने के बाद भी आजतक सेमीफाइनल तक भी नहीं पहुंच पाया. शायद हमें अपने खेल में कुछ संशोधन की जरुरत है.
(संविधान संशोधन की प्रक्रिया)

‪रूस :- भारत मेरा दोस्त है और उसकी मदद करना हमारा मूल कर्तव्य है.
(मूल कर्तव्य)

सभी देशों के सुनने के बाद अंबेडकर जी ने बड़े ही आराम से कहा…

इंडियन :- कुछ ऐसा करता हैं कि दुनिया याद रखती है. ये लो दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र का !

Note : भारतीय संविधान के अनेक देशी और विदेशी स्त्रोत हैं, लेकिन भारतीय संविधान पर सबसे अधिक प्रभाव ‘भारतीय शासन अधिनियम: 1935 का है. भारतीय संविधान के 395 अनुच्छेदों में से लगभग 250 अनुच्छेद ऐसे हैं, जो 1935 ई० के अधिनियम से या तो शब्दश: लिए गए हैं या फिर उनमें बहुत थोड़ा परिवर्तन किया गया है.

More Gk Notes :

हमें 4/5 star रेटिंग देकर बताए, आपको यह पोस्ट कैसी लगी :-

आपका Rating हमारे लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है !

हमसे जुड़ें, हमें फॉलो करे
  • Telegram पर फॉलो करे – Click Here
  • Facebook पर फॉलो करे – Click Here
  • Facebook ग्रुप ज्वाइन करे – Click Here

हमें फॉलो करे सोशल मीडिया साईट पर, और प्रति-दिन फ्री में करंट आफिर्स, नोट्स पीडीऍफ़ प्राप्त करे.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: कृपया उचित स्थान पर Click करे !!