Responsive

मौलिक कर्तव्य भाग-4 अनुच्छेद 51A

maulik kartavya ki sampurn jankari hindi me

0

नमस्कार दोस्तों, आज हम आप सभी को मौलिक कर्तव्य भाग 4 अनुच्छेद 51A के बारे में बताएंगे. maulik kartavya Notes जैसा की आप सभी जानते होगे की अक्सर IAS, PCS, UPPCS, MPPCS आदि परीक्षा में मौलिक कर्तव्य (maulik kartavya) से प्रश्न पूछे जाते है.  इसलिए आप सभी विद्यार्थियों के लिए जानना बहुत जरुरी है, अपने मौलिक कर्तव्य के बारे में ! अक्सर प्रतियोगी विद्यार्थी अपने मौलिक कर्तव्य भाग-4 अनुच्छेद 51A के बारे में नहीं जानते है, इसके वजह से इनसे सम्बंधित प्रश्नों को गलत करके आते है |  इसलिए आप सभी प्रतियोगी अभियार्थी के लिए हमें एक्सपर्ट टीम ने maulik kartavya ki sampurn jankari निचे दिए गए लेख के माध्यम से बताएगी |

Responsive

 (Maulik kartavya) मौलिक कर्तव्य भाग-4

भारतीय संविधान के प्रारंभ में मूल कर्तव्य (maulik kartavya) का समावेश नहीं था| 1976 में इंदिरा गांधी की सरकार द्वारा स्वर्ण सिंह समिति की सिफारिश पर पूर्व सोवियत संघ से प्रेरित होकर 42वें संविधान संशोधन के द्वारा भाग 4 में A जोड़कर तथा अनू. 51 में A जोड़कर 10 मौलिक कर्तव्य को शामिल किया गया है|

Maulik kartavya

86 संशोधन द्वारा एक मौलिक कर्तव्य (6-14 वर्ष तक के बच्चों को निशुल्क शिक्षा) जोड़ने के बाद इनकी संख्या 11 हो गई है| उल्लेखनीय है कि इनके उललंदन पर ठंड का कोई प्रावधान संविधान में नहीं है| किंतु इधर सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिए गए निर्णय से विकसित परंपरा के अनुसार मूल कर्तव्य के उल्लंघन पर सुप्रीम कोर्ट दंड दे सकती है|

Related GK ट्रिक नोट्स :-

11 मौलिक कर्तव्य में :-

  1. संविधान का पालन, राष्ट्रीय ध्वज, राष्ट्रीय गान का आदर.
  2. राष्ट्रीय आंदोलन को प्रेरित करने वाले उच्चदर्श.
  3. एकता का अखंडता
  4. देश की रक्षा एवं सेवा.
  5. सभी लोगों में सम्मान भावना.
  6. मिश्रित संस्कृति का संरक्षण.
  7. पर्यावरण सुरक्षा
  8. वैज्ञानिक दृष्टिकोण मानववाद
  9. सार्वजनिक संपत्ति की सुरक्षा
  10. व्यक्तिगत एवं सामूहिक क्षेत्र में उत्कर्ष
  11. 6 से 14 वर्ष तक के बच्चों को शिक्षित करने का अभिभावक का दायित्व|

नया राष्ट्रीय ध्वज संहिता

  • सुप्रीम कोर्ट द्वारा नवीन जिंदल के केस में यह निर्णय लिया गया कि झंडा रोहण का अधिकार अनु.19(1A) के अंतर्गत प्रत्येक नागरिक का मौलिक अधिकार है|
  • कोई भी व्यक्ति केवल सूर्योदय से आज तक झंडा फहराता सकता है|
  • इसे वस्त्र, गद्दे नेपकिन पर प्रिंट नहीं करना चाहिए|
  • वाहनों पर झंडा न लपेटे|
  • इसका ऊपर भाग नीचे (अर्थात उल्टा) करके ना फहराएं व इसे जमीन से स्पर्श ना करना चाहिए|
  • क्षत्रिग्रीस्त झंडे को ना फहराएं.
  • संशोधित संहिता 26 जनवरी 2002 से लागू की गई|

Responsive

संविधान लागू होने के 26 वर्ष बाद मूल कर्तव्य को शामिल किया करना आलोचना का विषय रहा था | रोचक है कि लोकतांत्रिक देशों में मूल कर्तव्य का प्रावधान नहीं होता है| इस कर्तव्य को जोड़ने के पीछे सरकार का तर्क था कि इससे लोगों को लोकतांत्रिक भावना का विकास होगा|

Fundamental Duty GK Question

  • राज्य स्वयं में साध्य है – जर्मन विचारक हेगल
  • व्यक्ति को अधिकार शक्तियां तथा राज्य को कर्म शक्तियां होना चाहिए – अराजकतावादी विचारक
  • “समाजवाद” शब्द के पहले प्रयोगकर्ता थे – रॉबर्टओवन
  • शक्ति के पृथक्करण (Sepration of Power) का सिद्धांत – मोंटेस्क्यू (Montesquieu) ने दिया
  • 1215 ईस्वी में ब्रिटेन में जेम्स प्रथम की – मैग्नाकार्टा कहते हैं
  • अमेरिका एवं ब्रिटेन मे – दो दलीय पद्धति का विकास हुआ है
  • भारत में 6 राष्ट्रीय दलित हैं, 950 क्षेत्रीय दल है
  • विश्व का पहला साम्यवादी संविधान – सोवियत संघ ने बनाया
  • विश्व का पहला धर्मनिरपेक्ष मुस्लिम राज्य था
  • अमेरिका का उच्च सदन (सीनेट) सबसे शक्तिशाली माना जाता है
  • विश्व का प्रथम लिखित संविधान – अमेरिका है
  • विश्व का सबसे शक्तिशाली राष्ट्रीध्यक्ष ब्रिटेन का प्रधानमंत्री होता है – संसद की सर्वोच्चता के कारण
  • भारत में संसद के दोनों सदनों का महत्व सवैधानिक दृष्टि से सम्मान होता है
  • भारत में राष्ट्रपति के विरुद्ध महाभियोग संसद में चलाया जाता है, किंतु अमेरिका में नयापालिका द्वारा चलाया जाता है.

नोट : Maulik kartavya Notes आशा है कि आप सभी को समझ में आ गया होगा, अगर आप सभी को “मौलिक कर्तव्य” से संबंधित किसी भी प्रकार का Douts हो तो आप हमें कमेंट करके पूछ सकते हैं|

जरुर पढ़े :-

हमसे जुड़ें, हमें फॉलो करे
  • Telegram पर फॉलो करे – Click Here
  • Facebook पर फॉलो करे – Click Here
  • Facebook ग्रुप ज्वाइन करे – Click Here

हमें फॉलो करे सोशल मीडिया साईट पर, और प्रति-दिन फ्री में करंट आफिर्स, नोट्स पीडीऍफ़ प्राप्त करे.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: कृपया उचित स्थान पर Click करे !!