Unification of Germany Important Point (जर्मनी का एकीकरण)

0

Unification of Germany in Hindi जर्मनी का एकीकरण नोट्स को लेकर आए है | Unification of Germany Revolution के महत्वपूर्ण Point तत्वों को लेकर आए हैं, जो आपके आने वाले परीक्षा की तैयारी करने में काफी मदद करेगी, World History के इस Topic  से बहुत ही महत्वपूर्ण जानकारी को लेकर आए है |

18 वीं सदी के अंत में जर्मनी 300 से अधिक छोटी-छोटी रियासतों में बँटा हुआ था। यद्यपि नेपोलियन ने जर्मनी की शक्ति को नष्ट करना चाहा, किन्तु अप्रत्यक्ष रूप से उसने जर्मनी के एकीकरण की पृष्ठभूमि तैयार कर दी। नेपोलियन बोनापार्ट ने जर्मनी के 300 से अधिक स्वतंत्र राज्यों के स्थान पर 39 राज्यों का एक संघ बनाकर जर्मनी की राष्ट्रीय एकता का मार्ग प्रशस्त किया, जिसके परिणामस्वरूप जर्मनी में एकता की भावना उत्पन्न हुई। वस्तुतः नेपोलियन के कार्यों के द्वारा जर्मनी के राज्यों में स्वतंत्रता की भावना उत्पन्न हुई। वस्तुतः नेपोलियन के कार्यों के द्वारा जर्मनी के राज्यों में स्वतंत्रता की भीवना का विकास हुआ था।

World History विषय के सभी Chapter पढ़े :-

Unification of Germany Important Point

Unification of Germany Important Point (जर्मनी का एकीकरण)
जर्मनी का एकीकरण
  • जर्मनी का एकीकरण बिस्मार्क ने किया । बिस्मार्क प्रशा के शासक विलियम प्रथम का प्रधानमंत्री था।
  • जर्मनी का सबसे शक्तिशाली राज्य प्रशा था।
  • बिस्मार्क जर्मनी का एकीकरण प्रशा के नेतृत्व में चाहता था।
  • विलियम को जर्मन संघ के सम्राट् का ताज 8 फरवरी, 1871 ई० में पहनाया गया।
  • बिस्मार्क को सबसे अधिक भय फ्रांस से था।
  • जर्मनी में राष्ट्रीयता का संदेशवाहक नेपोलियन बोनापार्ट को माना जाता है।
  • जर्मनी के आर्थिक राष्ट्रवाद का पिता फ्रेडरिक लिस्ट को माना जाता है।
  • जर्मनी राष्ट्रीय सभा को डायट के नाम से जाना जाता था, यह फ्रेंकफर्ट में होती थी।
  • 1815 ई० से 1850 ई० के बीच जर्मन साम्राज्य पर आस्ट्रिया का आधिपत्य था।
  • आस्ट्रिया का चान्सलर मेटरनिख था।
  • एकीकृत जर्मन राष्ट्र के निर्माण में राके, बोमर, लसर इत्यादि दार्शनिकों ने महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई।
  • फ्रैंकफर्ट संविधान सभा का गठन मई, 1848 ई० में किया गया।
  • विलियम प्रथम के शासनकाल में प्रशा का रक्षामंत्री वानरून एवं सेनापति वान माल्टेक था।
  • 23 सितम्बर, 1862 ई० को बिस्मार्क प्रशा का चांसलर बना।
  • बिस्मार्क का जन्म 1 अप्रैल, 1815 ई० को ब्रेडनबर्ग में हुआ था।
  • विलियम प्रथम ने बिस्मार्क को बाजीगर कहा था।
  • सेरेजोवा का युद्ध में 1866 ई० में आस्ट्रिया ने प्रशा के आगे आत्मसमर्पण कर दिया।
  • 23 अगस्त, 1866 ई० के प्राग संधि के तहत आस्ट्रिया जर्मन संघ में शामिल हुआ।
  • फ्रांस एवं प्रशा के बीच सेडान का युद्ध 15 जुलाई, 1870 ई० को हुआ।
  • नेपोलियन तृतीय ने प्रशा के आगे 1 सितम्बर, 1870 को आत्मसमर्पण किया।
  • बिस्मार्क ने जर्मनी के सम्राट विलियम प्रथम का राज्याभिषेक वर्साय के राजमहल में किया।
  • फ्रैंकफर्ट की संधि 10 मई , 1871 ई० को फ्रांस और प्रशा के बीच हुई।
  • सूडान के युद्ध के बाद जर्मनी का एकीकरण संभव हो सका।

Geography नोट्स डाउनलोड करे :-

History नोट्स डाउनलोड करे :-

Polity नोट्स डाउनलोड करे :-

हमसे जुड़ें, हमें फॉलो करे
  • Telegram पर फॉलो करे – Click Here
  • Facebook पर फॉलो करे – Click Here
  • Facebook ग्रुप ज्वाइन करे – Click Here

हमें फॉलो करे सोशल मीडिया साईट पर, और प्रति-दिन फ्री में करंट आफिर्स, नोट्स पीडीऍफ़ प्राप्त करे.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: कृपया उचित स्थान पर Click करे !!